2021: वैश्विक बौद्धिक सम्पदा क्षेत्र में रिकॉर्ड प्रगति, WIPO की नई रिपोर्ट | Intellectual Property

बौद्धिक सम्पदा संगठन का कहना है कि कोविड-19 महामारी से आए व्यवधान के बावजूद, ये निष्कर्ष पिछली आर्थिक मंदी के दौरान रुझानों के विपरीत हैं.

यूएन एजेंसी के महानिदेशक डैरन टैंग ने कहा कि नवीनतम आकंड़े दर्शाते हैं कि बौद्धिक सम्पदा दर्ज कराये जाने के मामलों में लगातार, सतत वृद्धि हो रही है. ये बढ़ोतरी बड़े पैमाने पर एशिया में देखी जा रही है और अन्य क्षेत्रों में भी ज़्यादातर बढ़ोत्तरी के रुझान ही दिख रहे हैं.

उन्होंने बताया कि महामारी के दौरान भी बौद्धिक सम्पदा क्षेत्र में मज़बूती बनी रही, जोकि इस बात का संकेत है कि महामारी के कारण उपजे आर्थिक और सामाजिक व्यवधानों के बावजूद, दुनिया भर में लोगों ने नवाचार जारी रखा.

एशिया की अग्रणी भूमिका

World Intellectual property indicators‘ शीर्षक वाली इस रिपोर्ट में प्रकाशित आंकड़ों के अनुसार नवप्रवर्तकों (innovators) ने पिछले साल वैश्विक स्तर पर 34 लाख पेटेंट आवेदन दायर किये.

वर्ष 2020 की तुलना में यह आंकड़ा 3.6 प्रतिशत अधिक है. कुल आवेदनों में से दो-तिहाई एशिया में प्राप्त हुए हैं.

चीन और भारत ने 5.5 प्रतिशत की बढ़ोतरी के साथ स्थानीय पेटेंट में मज़बूत वृद्धि दिखाई है. दक्षिण कोरिया में भी तेज़ी देखी गई जहाँ 2.5 प्रतिशत का उछाल आया.

अमेरिका में पेटेंट दर्ज कराये जाने की संख्या में गत वर्ष 1.2 फ़ीसदी, जापान में 1.7 फ़ीसदी और जर्मनी में 3.9 फ़ीसदी की गिरावट आई है.

जिनीवा स्थित एजेंसी ने बताया, “अधिकांश देशों ने वर्ष 2021 में ट्रेडमार्क दर्ज कराये जाने की गतिविधि में वृद्धि दर्ज की और वर्ष 2021 में, दुनिया भर में एक करोड़ 80 लाख ट्रेडमार्क की गिनती हुई, जोकि 2020 की तुलना में 5.5 प्रतिशत अधिक थी.”

महामारी के बाद उछाल

WIPO ने ध्यान दिलाया कि नए ब्रैंड़ को पंजीकृत करने में प्रगति, उद्यमी गतिविधियों और पूंजी समझौतों में आए उछाल के साथ-साथ हुई, जोकि कोविड-19 व्यवधान से उपजेथे.

“औद्योगिक डिज़ाइन दर्ज कराने की गतिविधि में 9.2 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, जिसमें एशिया में डिजाइन में सबसे अधिक वृद्धि हुई है.”

यूएन एजेंसी के महानिदेशक, डैरेन टैंग ने कहा कि अनिश्चित भू-राजनैतिक हालात और जलवायु संकट के बीच, यह मान कर नहीं चला जाना चाहिए कि बौद्धिक सम्पदा की दृढ़ता बरक़रार रहेगी.

उन्होंने चेतावनी जारी करते हुए कहा कि, “एक और आर्थिक मंदी मंडरा रही है और भू-राजनैतिक तनाव भी बढ़े हैं.

इस पृष्ठभूमि में, यूएन एजेंसी के महानिदेशक ज़ोर देकर कहा कि जलवायु परिवर्तन से उपजी चुनौतियों से निपटने और संयुक्त राष्ट्र टिकाऊ विकास लक्ष्यों (एसजीडी) की सफलता सुनिश्चित करने के लिये नवप्रवर्तकों के लिये समर्थन निरन्तर जारी रखना होगा ताकि वे अपने विचारों को वास्तविकता का रूप दे कर हमारे जीवन को बेहतर बना सके.

विश्व भर में, बौद्धिक सम्पदा आवेदन दर्ज कराये जाने के मामलों की संख्या 2021 में रिकॉर्ड स्तर पर पहुँच गई.

विश्व भर में, बौद्धिक सम्पदा आवेदन दर्ज कराये जाने के मामलों की संख्या 2021 में रिकॉर्ड स्तर पर पहुँच गई.

Source: संयुक्त राष्ट्र समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *