योरोप : वर्ष 2023 की गर्म शुरुआत ने तोड़े सभी रिकार्ड, WMO की नई रिपोर्ट

संयुक्त राष्ट्र के जलवायु परिवर्तन पर अन्तर सरकारी आयोग (IPCC) के मुताबिक़, “हिमनद, परमाफ़्रास्ट, बर्फ़ की सिकुड़ती चादरें, और उच्च अक्षांश व ऊँचाई पर मौसमी बर्फ़ अवधि में मज़बूत गिरावट देखी गई है और यह तापमान बढ़ना जारी रहेगा.” 

कम ऊँचाई पर स्थित योरोपीय स्की रिसॉर्ट पर्यटकों के लिये पर्याप्त बर्फ़ की चादर उपलब्ध नहीं कर पा रहे हैं.

विश्व मौसम विज्ञान एजेंसी (WMO) ने IPCC के व्यापक रूप से स्वीकृत सहकर्मी-समीक्षित वैज्ञानिक आँकड़ों का उल्लेख करते हुए बताया की सर्दी के दौर में ठोस सतह पर बर्फ़ की चादर जमने की आवृत्ति “में गिरावट आएगी”.

यूएन एजेंसी के अनुसार, अनेक योरोपीय देशों में, यहाँ तक कि मध्य योरोप में भी नव वर्ष 2023 तापमान 20 डिग्री सेल्सियस से ऊपर चला गया है.

WMO ने बताया है कि, दिसम्बर और जनवरी के महीनों में स्पेन के दक्षिणी हिस्से से लेकर योरोप के पूर्वी और उत्तरी भागों में, राष्ट्रीय स्तर पर और अनेक स्थानीय इलाक़ों में बढ़ते तापमान ने सभी रिकार्ड तोड़ दिये हैं.

स्पेन के तापमान में गिरावट

स्पेन के बिलबाओ हवाई अड्डे पर, एक जनवरी को 25.1 डिग्री सेल्सियस तापमान रिकॉर्ड किया गया और इस आँकड़े ने पिछले 12 महीने पहले स्थापित सभी रिकॉर्ड को तोड़ डाले हैं.

फ्रांस का पूर्वी शहर बेसनकॉन साल के इस समय ज़्यादातर सर्द रहता है, लेकिन वर्ष 2023 के पहले दिन ये तापमान 18.6 डिग्री के नए सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुँच गया है.

ये नया तापमान स्तर, पिछले रिकॉर्ड से 1.8 सेल्सियस अधिक है और ये वर्ष 1918 में जनवरी महीने में रिकॉर्ड किया गया था.

जर्मन शहर ड्रेसडेन में, वर्ष 1961 के नए साल की पूर्व संध्या पर 17.7 डिग्री तापमान दर्ज किया गया था. 31 दिसम्बर 2022 को रिकॉर्ड किये गए 19.4 डिग्री सेल्सियस तापमान ने 1961 के आँकड़ों को पीछे छोड़ दिया है.

ठीक उसी तरह की स्थिति पोलैंड के वारसॉ में नए साल के दिन देखी गई जब तापमान 18.9 डिग्री सेल्सियस तक पहुँच गया था. ये वर्ष 1993 में जनवरी महीने में रिकॉर्ड किये गए तापमान से 5.1 डिग्री सेल्सियस अधिक है.

वहीं उत्तर में, डेनमार्क के लोलैंड द्वीप में, वर्ष 2023 की शुरुआत 12.6 डिग्री सेल्सियस जैसे उँचे तापमान से हुई, जो वर्ष 2005 में दर्ज किये गए 12.4 डिग्री के रिकॉर्ड को पार कर गया है.

तापमान में उतार चढ़ाव

हाल के वर्षों में बोस्निया हरज़ेगोवीना को चरम मौसम घटनाओं का सामना करना पड़ा है.

हाल के वर्षों में बोस्निया हरज़ेगोवीना को चरम मौसम घटनाओं का सामना करना पड़ा है.

WMO ने योरोप में तापमान में वृद्धि के लिये भूमध्यसागरीय क्षेत्र पर एक उच्च दबाव वाले क्षेत्र को ज़िम्मेदार बताया है, और इसका सामना अटलांटिक के कम दबाव वाले क्षेत्र को करना पड़ा.

संयुक्त राष्ट्र एजेंसी ने बताया है कि उच्च दबाव वाले पारस्परिक प्रभाव ने “एक मज़बूत दक्षिण-पश्चिम प्रवाह को भड़का दिया, जो पश्चिमोत्तर अफ़्रीका से मध्य अक्षांशों तक गर्म हवाएँ/ताप लहरें लेकर आया है.”

एजेंसी ने साथ ही ध्यान दिलाया की पहले से ही सामान्य से गर्म हवाएँ उत्तरी अटलांटिक क्षेत्र से गुज़रते समय और ज़्यादा गर्म हो गई थीं क्योंकि उत्तरी अटलांटिक क्षेत्र में समुद्री सतह का तापमान सामान्य से अधिक था.

संयुक्त राष्ट्र विश्व मौसम विज्ञान संगठन (WMO) ने मौसम के रुझान पर, गर्म समुद्र के पानी के प्रभाव को उजागर करते हुए बताया कि पूर्वी उत्तरी अटलांटिक में, समुद्र की सतह का तापमान सामान्य से 1 से 2 डिग्री सेल्सियस अधिक था, और “इबेरिया के तटों के पास, और भी अधिक” रहा.

WMO के अनुसार, “इन सभी घटनाओं के कारण अनेक योरोपीय देशों में नए साल की पूर्व संध्या और नए साल के दिन रिकॉर्ड तोड़ गर्मी पड़ी.

समय का इशारा

WMO ने चेतावनी जारी करते हुए कहा कि योरोप में अनुभव की जाने वाली चरम मौसम घटनाओं के बढ़ने का अनुमान है.

जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र के अन्तर सरकारी पैनल (IPCC) के हाल ही में प्रकाशित एक विश्लेषण का सन्दर्भ देते हुए ये बात कही गई है.

IPCC ने कहा है कि भविष्य में वैश्विक तापमान वृद्धि के स्तर के बावजूद, पिछले अवलोकनों के समान, वैश्विक औसत तापमान परिवर्तनों से अधिक दर पर, सभी योरोपीय क्षेत्रों में तापमान बढ़ेगा.

योरोप के लिए IPCC के क्षेत्रीय तथ्य पत्र के अनुसार, हाल के दशकों में समुद्री ऊष्मा सहित चरम मौसम घटनाओं की आवृत्ति और तीव्रता में वृद्धि हुई है. ग्रीनहाउस गैस की सघनता में निरन्तर वृद्धि व उससे उपजी गर्मी से ये रुझान जारी है जिससे जलवायु झटकों और चरम मौसम की घटनाओं की संख्या बढ़ने की आशंका है.

Source: संयुक्त राष्ट्र समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *