लीबिया: युद्धविराम के लिए फिर से प्रतिबद्धता जताए जाने का आग्रह

लीबिया में संयुक्त राष्ट्र के विशेष प्रतिनिधि अब्दुलआए बाथिलि ने सरकार से उपयुक्त संसाधन आबंटित किए जाने, गतिरोध का अन्त करने के लिए राजनैतिक प्रयासों में तेज़ी लाने का अनुरोध किया.

साथ ही, चुनावों के ज़रिये लीबियाई संस्थाओं की वैधानिकता को पुनर्स्थापित किए जाने की अहमियत को रेखांकित किया गया है.

वर्ष 2011 में लीबिया के पूर्व शासक मुआम्मर ग़द्दाफ़ी को सत्ता से हटाए जाने के बाद से ही, तेल सम्पदा से सम्पन्न देश लीबिया अनेक संकटों में घिरा रहा है.

देश में फ़िलहाल दो प्रतिद्वंद्वी प्रशासन हैं – संयुक्त राष्ट्र द्वारा मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय सहमति वाली सरकार, राजधानी त्रिपोली में स्थित है.

जनरल ख़लीफ़ा हफ़्तार के नेतृत्व में स्वयंभू लीबियाई नेशनल आर्मी का बेनग़ाज़ी में नियंत्रण है.

विशेष प्रतिनिधि बाथिलि ने दो-दिवसीय बैठकों की अध्यक्षता की, और उन्होंने परस्पर विरोधी गुटों के सैन्य प्रतिनिधियों की सराहना की है.

उन्होंने हर पक्ष से पाँच सैन्य प्रतिनिधियों, 5+5 के फ़ॉर्मूले पर हुई इस बैठक में सम्मिल्लित पक्षों की लीबिया में शान्ति व स्थिरता, और एकता व अखंडता के लिए उनकी दृढ़ता और संकल्प की प्रशंसा की.

यूएन मिशन प्रमुख बाथिलि ने राजनैतिक नेताओं से एकता व त्याग की उसी भावना को दर्शाने का आहवान किया, जैसाकि संयुक्त सैन्य आयोग के वर्दीधारी प्रतिनिधियों ने दिखाया है, ताकि मौजूदा संकट से उबरा जा सके.

यूएन के वरिष्ठ अधिकारी ने संयुक्त सैन्य आयोग और प्रासंगिक लीबियाई संस्थाओं के लिए, संयुक्त राष्ट्र से हरसम्भव समर्थन का भरोसा दिलाया है.

शान्ति व स्थिरता की ओर

उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र, देश में सैन्य व सुरक्षा संस्थाओं का एकीकरण करने और भाड़े के सैनिकों को पीछे हटाने के प्रयासों में मदद करने के लिए तैयार है.

लीबिया की क्षेत्रीय अखंडता को संरक्षित रखने पर केन्द्रित कार्ययोजना के लिए यह अहम है.

उन्होंने इसके अलावा देश में संकट की समाप्ति के लिए पड़ोसी देशों को साथ लेकर चलने के रास्ते तलाश करने का भी आग्रह किया.

अब्दुलआए बाथिलि ने अन्तरराष्ट्रीय समुदाय से 5+5 सैन्य आयोग को समर्थन देने की अपील की, जोकि उनके अनुसार सभी लीबियाई नागरिकों के लिए एक आशा का उपकरण है.

बताया गया है कि बैठक के दौरान, संयुक्त सैन्य आयोग ने लीबिया में सतत शान्ति व सुरक्षा के लिए अनुकूल माहौल तैयार करने के रास्तों पर भी चर्चा की.

बैठक के समापन सत्र में, यूएन मुख्यालय की एक टीम ने शिरकत की, जिसका दायित्व पिछले वर्ष स्वतंत्र रणनैतिक समीक्षा के तहत प्रस्तुत सिफ़ारिशों को, यूएन मिशन द्वारा लागू किए जाने के प्रयासों का आकलन करना है.

इस समीक्षा के ज़रिये यूएन मिशन शासनादेश (mandate) में उल्लिखित दायित्वों को सर्वोत्तम तौर-तरीक़ों से पूरा करना और लीबियाई नागरिकों की आशाओं पर खरा उतरना है.

Source: संयुक्त राष्ट्र समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *