यूएन प्रमुख, समुद्री दौड़ सम्मेलन के लिए पहुँचे – केप वर्डे

जवाब का स्रोत 2015  में मिलता है जब इस द्वीपीय देश की राष्ट्रीय सरकार ने, एक रणनैतिक योजना तैयार की थी कि नील अर्थव्यवस्था, किस तरह इस देश के भविष्य का केन्द्रीय हिस्सा होगी, साथ ही जवाब, उसके बाद से निवेशों की श्रृंखला में भी नज़र आता है.

मगर इस संध्या, यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने, एक अदभुत नज़ारे का आनन्द लिया जिसमें समुद्री दौड़ में शिरकत करने वाली 11 नौकाएँ, मिंडेलो बन्दरगाह पर बंधी हुई थीं, और उनके दस मंज़िला ऊँचे मस्तूल जैसे साओ विसेंटे द्वीप के ऊपर के आसमान का कुछ हिस्सा झपटने की कोशिश कर रहे हों.

महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने इससे पहले, नील अर्थव्यवस्था को इस द्वीपीय देश में टिकाऊ विकास को प्रोत्साहन देने के लिए, एक बुनियादी अवसर क़रार दिया था, और कहा था कि संयुक्त राष्ट्र इस महत्वाकांक्षा को वास्तविकता तब्दील करने के लिए, इस देश की सरकार और वहाँ के लोगों के साथ काम करने के लिए तत्पर है.

केप वर्डे के प्रधानमंत्री होज़े उलिसैस कोरेइया ई सिल्वा ने कहा कि उनके देश को, अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर बेहतर रूप में और ज़्यादा प्रासंगिक तरीक़े से जाना जाए, और समुद्र एक ऐसा सैक्टर है जहाँ, वो चाहते हैं कि उनकी आवाज़ सुनी जाए.

उन्होंने कहा, “ये तार्किक बात है कि हमें इस विशिष्ट क्षेत्र में एक ख़ास स्थिति में रखना होगा और ऐसा प्रासंगिक तरीक़े से करना होगा. ये अति प्रासंगिक बात है कि ये सन्देश यहाँ से सृजित हो रहा है.”

इस देश ने, पिछले पाँच वर्षों के दौरान, इस प्रयास के एक हिस्से के रूप में, हर वर्ष एक समुद्र सप्ताह का आयोजन किया है, और आगामी सोमवार को, केप वर्डे ने, एक सम्मेलन का आयोजन करने के लिये, समुद्र दौड़ के साथ साझेदारी की है. इस सम्मेलन में, दुनिया भर से प्रमुख हस्तियाँ आकर अपनी बात कहेंगी, जिनमें यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश भी शामिल हैं.

अस्तित्व सम्बन्धी एक जोखिम

यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश, द्वीपीय देश केप वर्डे में, देश के प्रधानमंत्री होज़े उलिसेस ई सिल्वा के साथ, समुद्री दौड़ सम्मेलन स्थल का दौरा करते हुए. (21 जनवरी 2023) )

कैबो वर्टे की प्रतिबद्धता, शायद पर्याप्त ना हो. एंतोनियो गुटेरेश ने आगाह करते हुए कहा कि ये देश “अस्तित्व सम्बन्धी एक संकट के अग्रिम मोर्चे पर है” – जलवायु परिवर्तन.

उन्होंने कहा, “समुद्र के जल स्तर में बढ़ोत्तरी और जैवविविधता व पारिस्थितिकी तंत्र की हानि, इस द्वीप समूह के अस्तित्व के लिए एक जोखिम उत्पन्न करते हैं.”

“मैं ये देखकर बेहद हताश हूँ कि विश्व नेतागण, इस जीवन व मृत्यु की आपदा को, आवश्यक कार्रवाई और निवेश नहीं दे रहे हैं.”

इनमे से कुछ नतीजे तो, इस समुद्री दौड़ की मेज़बानी करने वाले बन्दरगाह पर पहले महसूस किए जा रहे हैं. इस बन्दरगाह को अफ़्रीका के पूरे पश्चिमी तट में सर्वश्रेष्ठ माना जाता है और इसका कारण है कि सदियों पहले इसने व्यापारियों और समुद्री घुमन्तुओं को आकर्षित किया था, और अब ये दुनिया भर की महानतम नौका चालन की मेज़बानी करता है.

पिछले पाँच वर्षों के दौरान, कैबो वर्डे के मछुआरों ने ब्लैक मैकेरेल नामक मछली के शिकार में ख़ासी कमी देखी है, जोकि स्थानीय स्तर पर बहुत लोकप्रिय मछली है.

वर्ष 2022 में पैकेजिंग उद्योग ने ट्यूना और ब्लैक मैकेरेल मछलियों के शिकार में ख़ासी कमी दर्ज की थी, जोकि इस उद्योग के लिए कच्चा माल हैं.

वर्ष 2018 में मछली सैक्टर ने 6 हज़ार 283 लोगों को रोज़गार मुहैया कराया, और लगभग 5 लाख 88 हज़ार की बादी की भोजन ख़ुराक में, मछली एक प्रमुख हिस्सा थी. ये मछली उत्पाद, देश के कुल निर्यात का लगभग 80 प्रतिशत हिस्सा थे.

यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने शनिवार शाम को, कैबो वर्डे राष्ट्रीय कला, शिल्प और डिज़ाइन केन्द्र में, प्रधानमंत्री द्वारा आयोजित और समर्थित एक वक्ता श्रृंखला में शिरकत करते हुए कहा, “जलवायु परिवर्तन, मछली उद्योग के साथ-साथ सम्पूर्ण जैवविविधता के भविष्य के लिए एक स्पष्ट जोखिम है.”

एंतोनियो गुटेरेश ने कहा, “सच बात ये है कि मछली उद्योग और जलवायु संरक्षण के दरम्यान बहुत स्पष्ट सम्बन्ध है. अनुभव ने दिखाया है कि जब किसी निश्चित क्षेत्र को संरक्षित किया जाता है, तो अन्य क्षेत्रों पर उसके बहुआयामी प्रभाव पड़ते हैं, और हर किसी को लाभ पहुँचता है.”

Source: संयुक्त राष्ट्र समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *